Study ;)

इस कड़कड़ाती ठंड में तुम नहाने की बात करते हो !! 🚿
ऊपर से नहाने के बाद library जाने की बात करते हो !! 🏢
#end_sem_exam के बीच 3 दिन का gap मिला तो अब तक 3 minute भी पढ़े नहीँ , 😪
और तुम अगला पूरा sem मचाने की बात करते हो !!!! 😂😂😂

Advertisements

:P

Agr ladki ko PATNA hoga to pat jayegi….just BIHAR good friend..
Don’t force, warna THANE jana pd skta h.. aur AGARA mauka GAYA to wo tumhari SURAT bhi nhi dekhegi…fir bs PURI k sath PATIALA pag laga kr gam bhulana padega , LONDON suno.. apni DELHI ki mt suno.. dimag ki bhi sun liya kro..
aur jyada jaldi hai TAMIL lo na !!
warna life me CHENNAI milegi…
😜😜😜😜😜😜😜😜

Lalu ji ;)

साढ़े तीन साल की सजा तो बहुत मामूली है उस लालू यादव के लिए, जिसके शासनकाल में जाति पूछकर गोली मारी जाती थी । जिसके शासनकाल में लोगों का गला लाइन में बैठाकर काटा जाता था । जिसके शासनकाल में मुख्यमंत्री का भतीजा आईएएस की पत्नी का बलात्कार करता था और मुख्यमंत्री का सगा भाई लड़की का बलात्कार करके हत्या कर देता था । जिसके शासनकाल में हर शहर के बाहर एक परमानेंट लूट-पाट का स्थल बना था जहां शाम में निश्चित रूप से कोई लुटा जाता था । जिसके शासनकाल में व्यापारी पलायन कर चुके थे, अपहरण एक उद्योग का रूप ले चुका था, जर्जर राजमार्गों पर बोर्ड टँगे थे कि ये केंद्रसरकार की सड़क है, उस लालू यादव के लिए ये सजा बेहद मामूली है । उस लालू यादव के लिए ये सजा बेहद मामूली है जिसने शिक्षा, स्वास्थ्य, परिवहन, कृषि, उद्योग आदि को पूरी सुनियोजित योजना के साथ बर्बाद किया ।

ये साढ़े तीन साल की मामूली सजा भी उसे उन गरीबों का पैसा खाने के लिए मिली है जिन गरीबों की दुहाई ये रातदिन देते हैं और राज्य के करोड़ों लोगों का मनोबल तोड़ने, दोयम बनाये रखने, पलायन करने, सुदूर राज्यों में मजदूर बनने, जाति पूछकर हत्या करने जैसे संगीन जुर्म में तो कोई सजा मिली ही नही । हम बिहारियों को असली दुःख इसी बात का होना चाहिए कि ऐसे आदमी को इतनी कम सजा क्यों…।
Scam of 950 Crore and fine of 5 lakhs !!
Not fare…
#charachor_lalu
#prisioned_for_three_years

Happy Women’s day !!

तो ……… आज महिला दिवस है ..
” has tag Happy Woman’s day ” कर के आपने भी कुछ न कुछ अपने Facebook wall या whatsapp status पर डाल ही दिया होगा ……

पर क्या सच में हमारे समाज़ में महिलओं के लिये ” Happy ” शब्द उपयुक्त है ??
एक ऐसा समाज जहां एक लड़की के पैदा होने पर दुःख जताया जाये …….
एक ऐसा समाज जहां घर की बहू को इस बात के लिये प्रताड़ित किया जाये की वो एक बेटा नहीँ दे सकी ……
एक ऐसा समाज जहां ये कहा जाता होगा की लड़किओं का काम पढ़ाई लिखाई नहीँ , बल्कि चूल्हा चौकी है …..
एक ऐसा समाज जहां एक लड़की को किसी लड़के से बात तक ना करने दिया जाये और अचानक से उसकी पसँद पूछे बिना किसी अनजान मर्द से उसका विवाह करा कर हमबिस्तर होने के लिये केह दिया जाये ……..
एक ऐसा समाज जहाँ किसी लड़की का बलात्कार हो जाये तो उसके माँ बाप उस बलात्कारी के खिलाफ लड़ने के बजाये उस बेटी को ही घर में कैद कर देते है क्यूँकि आस पास के लोग उस लड़की का साथ और सहनुभूति देने के बजाये उसे समाज की गँदगी समझने लगते हैँ………
एक ऐसा समाज़ जहां एक स्त्री को बच्चा पैदा करने की मशीन समझा जाता हो …..

आँकड़ों की बात करे तो सन् 1985 से 2005 तक 18 लाख़ बच्चियों का क़त्ल हुआ है जिनकी उम्र 5 साल से कम थी .. पेट में लड़किओं को मार देने वाले सँख्या तो अनगिनत है !!
सरकार के इतने कड़े क़ानून होने के बावजूद लोग भ्रूण हत्या करते हैँ ….
उसका कारण ये नहीँ है की कोई महिला जाति से नफ़रत करता है … उसका कारण है ये नीच सोच वाला समाज़..
जहां लोगो को लगता है कि बेटा तो बुढ़ापा का लाठी है , कमा धमा के खिलायेगा जबकि बेटी के घर का तो पानी भी पीना अपराध है …..
उसे बचपन से पाल पोस के बड़ा करो .. फ़िर उसकी पढ़ाई लिखाई .. और फ़िर उसकी शा़दी में बरसोँ से अर्जित किया हुआ धन दहेज़ में दे दो ……..
और कहीँ ग़लती से लड़की को प्यार व्यार हो गया फ़िर तो समाज़ के सामने मुँह दिखाने लायक़ भी नहीँ बचेंगे …….

खैर , जो है , सो है …
कुछ कर सके तो आप कीजियेगा …
सिर्फ Faceboook और whatsapp पर#Happy_Womans_day लिखने से कुछ ख़ास नहीँ होगा …
और हाँ … मेरी तरफ़ से भी सभी को #Happy_Womans_Day 😁happy women's day

Kathu & Unnao Raape Case

मुझे अभी तक लगता था भीड़ में तलवारें लेकर ” जय श्री राम ” चिल्लाने से आप सच्चे देशभक्त बन सकते हैं !!
अब लगता है 8 साल की बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार करने के बाद अगर आप ” जय श्री राम ” चिल्लाये तो आप निर्दोष भी बन सकते है !!

देश के नेताओ के गमछे का रंग बस बदल गया है ..
सोच उतनी ही गिरी हुई है .. भ्रष्टाचार उतना ही अभी भी है , गँगा उतनी ही मैली है .. बस गँगा को आदरणीय गँगा माँ का दर्जा मिल गया है ताकि धर्म के नाम पर वोट मिल सके , बलात्कार आपका होगा और दोषी भी आप ही होँगे और हो सकता है बलात्कारी के खिलाफ आवाज उठाने की सज़ा आपको ही मिले .. और हो सकता है सज़ा के तौर पर आपके ही पिता को पुलिस पीट पीट कर जान से मार दे !!! बच के रहिये इस ‘ new india ‘ में !!
#Uttar_pradesh
#Unnao

Hamara Bihar <3

“क्या रखा है इन किताबी संसार में ,
आओ Top करते हैं , बिना पढ़े इस बिहार में ”

कुछ इस तरह के व्यंग्यात्मक पंक्तियों से बिहार के शिक्षा पद्द्ति और बिहार के छात्रों का मज़ाक उड़ाया जा रहा था जब पिछले साल बिहार बोर्ड का परिणाम आया था जब कुछ लोगो ने पैसे खा कर अयोग्य छात्रों को टॉप कर दिया गया था । हर मीडिया पर इसी के चर्चे थे , यहाँ तक कि पाकिस्तानी चैनल ने भी इसे बखूबी दिखाया और ऐसा प्रतीत किया कि यही भारतीय शिक्षा है और उस Youtube के वीडियो के नीचे पूरे भारत के लोगो के कुछ ऐसे कमेंट आ रहे थे जैसे बिहार के वजह से भारत बदनाम हो रहा है ।

आज फिर से इस साल का परिणाम आया है .. पर मीडिया का अता पता नहीं .. क्यों कि वो टॉपर इस बार NEET टॉपर भी है । कुछ लोगो ने यहाँ भी मसाला ढूंढने की कोसिस की उसके स्कूल के अटेंडेंस पर प्रश्नचिह्न लगा कर ।
अब या तो कोई छात्र कोचिंग करेगा या स्कूलिंग , कल्पना ने कोचिंग किया ।

मैं किसी का बचाव नहीं कर रहा , ना तो यहाँ के सरकार की और न ही बिहार बोर्ड से जुड़े उन सरकारी कर्मचारियों की ।
मैं बस इतना कहना चाहता हूँ कि उनकी गलतियों की जिम्मेदारी एक आम बिहार बोर्ड का छात्र अपने सर क्यों ढोये ?
वो क्यों कोई अपशब्दों का सामना करे ?

“अच्छा , बिहार बोर्ड के छात्र हो !! , ये बताओ जो तुम्हारे 380 नंबर आये है , इसमे तुम्हारा खुद का कितना है ? ”

“तुम बिहार के छात्र तो बिना पढ़े ही परीक्षा पास कर जाते होगे न ? ”

” यार , मुझे भी स्टेट टॉपर बनना है , बिहार में एडमिशन ले लू क्या ? ”

” यार , तुम लोगो का सही है , घर पर बैठे बैठे 12th पास का सर्टिफिकेट मिल जाता है ”

“अच्छा , बिहार में स्कूल नहीं जाना पड़ता होगा न ”

अब मैं आपको कैसे समझाऊँ कि यहाँ एक ढंग का स्कूल ही नहीं है जहाँ अच्छे से पढ़ाई होता हो । हम अपने बल पर लालटेन जला के दिन रात पढ़ते है ताकि अच्छे से अच्छा नंबर ला सके । और हां , अगर एक बिहार बोर्ड के छात्र के 70% अंक आते हैं न तो ये 85% से कम नहीं होता अगर CBSE बोर्ड से होते तो (और आंध्र प्रदेश बोर्ड से 95% 😛) ।।
शायद कल्पना जी का रिजल्ट काफी है ये साबित करने के लिए , एक तरफ जहां CBSE टॉपर्स के 97-100% तक आ जाते है , वहीं NEET AIR-1 के 85% ही आये हैं बिहार बोर्ड में और इस low markings के वजह से यहाँ के छात्रों को बड़े बड़े यूनिवर्सिटीज में एडमिशन भी नही मिल पाता ।
और आप ये जो सोचते हैं न कि यहाँ सब ऐसे ही पास कर जाता है… तो ज़रा पता कीजियेगा की passing% क्या है बिहार की ।
इस साल महज़ 52% लोग पास हो पाए पर यही सब लोगो ने अगर CBSE बोर्ड से एग्जाम दिया होता न , तो 70-75% लोग तो पक्का पास हुए होते ।

काश , वो लोग जो हर वक़्त बिहार के शिक्षा का मज़ाक उड़ाते है , कुछ सहयोग कर पाते ।
काश , वो ये समझ पाते कि “रूबी राय” वाला कांड महज एक धांधली था , एक घोटाला था जिसमे बस कुछ लोगो का हाथ था न कि पूरे बिहार के मेहनती छात्रों का ।
काश किसी के बारे में यू ही कुछ बोलने से पहले सोचते कि वो कितना मेहनत करके यहाँ आया होगा ।

#मत_बदनाम_कीजिये_बिहार_को
#गर्व_है #था_और_रहेगा
#Proud_Bihari 🙂
।।। शुक्रिया ।।।

खाते है हिंदुस्तान के , गाते है पाकिस्तान के ।।

ये वीडियो मेरे गाँव नासरीगंज , जिला – रोहतास , बिहार का है , और ये जुलूस ईद के दिन का है (16th जून 2018) ।।
लगता तो नही कि मुझे कुछ खास बोलने की जरूरत है , ये वीडियो काफी है बहुत कुछ समझाने के लिए ।।।।

आइये एक किस्सा सुनता हूं अपने बचपन की – वो 25 September 2007 की तारीख़ थी , मैं तो बस 10-11 साल का था , अपनी जाति धर्म का खास ख़बर भी नही रखता था… पर क्रिकेट का धर्म तो उसी समय से अपना लिया था मैंने ।
उस 25 तारीख को मैं दर्ज़ी मोहल्ले में कुछ सामान लेने गया था (दर्ज़ी मोहल्ला मेरे गाँव का वो मोहल्ला था जहाँ ज़्यादातर मुस्लिम लोग रहते थे ) , उधर मैंने टूटे हुए TV देखे जो रोड पर पड़े हुए थे और थोड़ा उदासी भी छाई हुई थी उधर । बहुत पता करने के बाद मालूम हुआ इसका कारण । और वो कारण था कि पिछले रात (24 sept) को पाकिस्तान T20 का फाइनल हार गया था ।। एक और जगह था , कसाई मोहल्ला जहाँ सारे बूचड़खाने थे और गाये और भैंसों को काटा जाता है , वो जगह भी काफी मायूस था ।।

ये जानने के बाद कि इस देश के कुछ लोग इसी देश के क्रिकेट टीम की हार चाहते है , उस 11 साल के लड़के को थोड़ा दुख तो पहुँचा पर उस से भी ज्यादा उसे इस बात का आश्चर्य हुआ की ऐसा भी हो सकता था ….और एक बात उस छोटे से बच्चे के जेहन में बैठ चुका था कि ये जरूरी नही की अगर आप भारत मे बसते हैं तो आपके दिल मे भी भारत ही बसे , पाकिस्तान भी बस सकता है ।।।।

वैसे वो दिन मुझे बार बार याद आते ही रहता है , घटनाएं ही ऐसी ऐसी होती रहती है मेरे गाँव मे ।।
कुछ दिन पहले पाकिस्तान ने जब भारत को एशिया कप में हराया था , उस दिन भी पटाख़े फूटे थे , मोहोर्रम के जुलूस में पाकिस्तान का गुणगान करना बड़ी बात नही और फिर ये ।….और भी बहुत सारी घटनाएं हैं , सब पर तो बोल नही सकते ।।

एक बात तो है , सबके सामने लाउड स्पीकर में ये गाना “हम पाकिस्तानी मुजाहिद है , काट के रख देंगे” बज रहा है और किसी ने उसे बंद कराने की कोसिस तक नहीं की …
शायद ये समझाने के लिए काफी है कि वैसी सोच रखने वाले “कुछ” लोग तो नही हैं , काफी बड़ी जनसंख्या है उनकी जो पूरे देश मे फैले हुए है ।

एक तरफ जहां मोहोम्मद औरंगजेब जबाज़ी से लड़ते हुए देश के लिए शाहिद हो जाते है वही कुछ लोगो के वजह से एक कौम पर सवाल उठाए जाते है ।।

शायद उन्हें इस बात का इल्म नही है कि देश होता क्या है , उन्हें इस बात कि समझ नही है कि जिस मुल्क की वो जय जय कार कर रहें है अगर वो वहां रहते तो जीना कितना दुश्वार होता , नाहीं इन्हें इस वाक्य “हुब्बुल वतनी मिनल ईमान” का मतलब पता होगा जो इन्हीं के धर्म गुरुओं द्वारा कहा गया था …

खैर , आप चाहे तो मुझे भाजपाई , संघी , मुस्लिम विरोधी , चड्डिधारी या कोई गाली भी दे सकते हैं , पर मैं बोल रहा हूँ वो सच है ।।
बुरा लगा हो तो माफ कर दीजियेगा , और मेरे खिलाफ ईर्ष्या पालने से अच्छा होगा कि उन्हें कुछ समझाये जो ऐसी हरकतें करते हैं ।।

शुक्रिया ।। 🙂🙂🙂